Jashn-E-Bahaaraa Lyrics In Hindi And English - जश्न-इ-बहरा (Jodhaa Akbar)

We have brought Jashn-E-Bahaaraa lyrics for you. This song is from Jodhaa Akbar movie. Jashn-E-Bahaaraa song is sung by the Javed Ali, wrote by Javed Akhtar and, music is given by A.R.Rahman.

Song Credit
Song Title : Jashn-E-Bahaaraa
Lyrics : Javed Akhtar
Singer : Javed Ali
Music : A.R.Rahman
Movie : Jodhaa Akbar

Jashn-E-Bahaaraa Lyrics In Hindi And English

Jashn-E-Bahaaraa Lyrics In Hindi

कहने को जश्न-इ-बहरा है
इश्क़ यह देखके हैरान है
कहने को जश्न-इ-बहरा है
इश्क़ यह देखके हैरान है

फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

सरे सेहमें नज़ारे हैं
सोए सोए वक़्त के धारे हैं
और दिल में कोई खोयी सी बातें हैं
कहने को जश्न-इ-बहरा है

इश्क़ यह देखके हैरान है
फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

कैसे कहें क्या है सितम
सोचते है अब्ब यह हम
कोई कैसे कहें वह है या नहीं हमारे
करते तो है साथ सफर

फासले हैं फिर भी मगर
जैसे मिलते नहीं किसी दरिया के दो किनारे
पास हैं फिर भी पास नहीं
हम को यह गम रास नहीं
शीशे की एक दीवार है जैसे दरमियाँ

सरे सेहमें नज़ारे हैं
सोए सोए वक़्त के धारे हैं
और दिल में कोई खोयी सी बातें हैं
कहने को जश्न-इ-बहरा है

इश्क़ यह देखके हैरान है
फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

हमने जो था नग्मा सुना
दिल ने था उसको चुना
यह दास्ताँ हमें वक़्त ने कैसे सुनाई
हम जो अगर है ग़मगीन

वह भी उधार खुश तो नहीं
मुलाकातों में जैसे घुल सी गई तन्हाई
मिलके भी हम मिलते नहीं
खिलके भी गुल खिलते नहीं
आँखों में है बहरें दिल में खिलजा

सरे सेहमें नज़ारे हैं
सोए सोए वक़्त के धारे हैं
और दिल में कोई खोयी सी बातें हैं
ओ हूँ कहने को जश्न-इ-बहरा है

इश्क़ यह देखके हैरान है
फूल से खुशबू खफा खफा है गुलसन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

Jashn-E-Bahaaraa Lyrics In English

Kehne ko jashan-e-bahara hai
Ishq yeh dekhke hairaan hai
Kehne ko jashan-e-bahara hai
Ishq yeh dekhke hairaan hai

Phool se khusboo khafa khafa hai gulsan mein
Chupa hai koi ranj fiza ki chilman mein

Sare sehmein nazare hain
Soye soye vaqt ke dhare hain
Aur dil mein koi khoyi si baatein hain
Kehne ko jashan-e-bahara hai

Ishq yeh dekhke hairaan hai
Phool se khusboo khafa khafa hai gulsan mein
Chupa hai koi ranj fiza ki chilman mein

Kaise kahen kya hai sitam
Sochte hai abb yeh hum
Koi kaise kahen woh hai ya nahi humare
Karte to hai saath safar

Fasle hain phir bhi magar
Jaise milte nahi kisi dariya ke do kinare
Pass hain phir bhi paas nahi
Hum ko yeh gum raas nahi
Seeshe ki ek diware hai jaise darmiyan

Sare sehmein nazare hain
Soye soye vaqt ke dhare hain
Aur dil mein koi khoyi si baatein hain
Kehne ko jashan-e-bahara hai

Ishq yeh dekhke hairaan hai
Phool se khusboo khafa khafa hai gulsan mein
Chupa hai koi ranj fiza ki chilman mein


Humne jo tha nagma suna
Dil ne tha usko chuna
Yeh dastan humen vaqt ne kaise sunai
Hum jo agar hai gumgin

Woh bhi udhar khush to nahi
Mulakato mein jaise ghul si gai tanhai
Milke bhi hum milte nahi
Khilke bhi gul khilte nahi
Aankhon mein hai baharein dil mein khilza

Sare sehmein nazare hain
Soye soye vaqt ke dhare hain
Aur dil mein koi khoyi si baatein hain
O hoo kehne ko jashan-e-bahara hai

Ishq yeh dekhke hairaan hai
Phool se khusboo khafa khafa hai gulsan mein
Chupa hai koi ranj fiza ki chilman mein

We hope you like Jashn-E-Bahaaraa lyrics. If you have any suggestions about Jashn-E-Bahaaraa Lyrics, you can contact us. Don't forget to share these beautiful Jashn-E-Bahaaraa lyrics in the voice of Javed Ali with your friends.

Previous Post Next Post